कुंडली बॉर्डर पर किसान ने खुद को मारी गोली, सुसाइड नोट में छलका दर्द

सोनीपत के कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शामिल एक किसान ने खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली, बताया जा रहा है किसान करनाल का रहने वाला है व गुरुद्वारा नानकसर में ग्रंथि था । उन्होंने लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली।किसान के पास से सुसाइड नोट भी मिला है ।

जानकारी के मुताबिक बाबा राम सिंह किसान आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभा रहे थे व अपने गाँव से लगातार आंदोलन में आ रहे थे लेकिन पिछले कुछ दिनों से बॉर्डर पर ही रुके हुए थे ।

 कुंडली बॉर्डर पर मौजूद लोगो ने बताया कि बाबा राम सिंह अचानक स्टेज के पीछे चले गए और उन्होंने खुद को गोली मार ली। उन्होंने सोनीपत के पार्क हस्पताल ले जाया गया लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुके थे। मृतक किसान की पहचान बाबा राम सिंह बासी सर सिंगरा करनाल के रुप में हुई है।

सुसाइड नोट का हिंदी अनुवाद –

किसानों का दुख देखा, अपने हक के लिए सड़कों पर परेशान हो रहे हैं। बहुत दिल दुख रहा है, सरकार न्याय नहीं दे रही है। यह जुल्म है। जुल्म करना पाप है, जुल्म सहना भी पाप है।

किसानों के जुल्म के खिलाफ किसी ने कुछ किया, किसी ने कुछ किया, किसी ने सम्मान वापस किये, किसी ने पुरुस्कार वापस कर रोष जताया।किसानों के जुल्म के खिलाफ आत्मदाह करता हूं

यही जुल्म के खिलाफ आवाज है। और किसान के जुल्म के खिलाफ आवाज है।वाहेगुरु जी दा खालसा, वाहेगुरु जी दी फतेह